सिंधू ने कहा, इस साल नंबर एक बनना चाहती हूं

मुंबई, 20 फरवरी (भाषा) भारत की शीर्ष बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधू ने 2018 को ‘बड़ा साल’ करार देते हुए आज कहा कि पिछले सत्र में मामूली अंतर से चूकने के बाद वह इस साल के अंत तक नंबर एक बनना चाहती हैं।

सिंधू ने यहां एक कार्यक्रम के इतर पीटीआई से कहा, ‘‘यह बड़ा साल है और अगला टूर्नामेंट आल इंग्लैंड है। राष्ट्रमंडल और एशियाई खेल भी होने हैं। मैं एक बार में एक टूर्नामेंट पर ध्यान देना चाहती हूं। मैं इस साल के अंत में खुद को नंबर एक के रूप में देखना चाहती हूं।’’

ओलंपिक और विश्व चैंपियनशिप की रजत पदक विजेता सिंधू को दुबई सुपर सीरीज फाइनल्स के महिला एकल फाइनल में जापान की अकाने यामागुची के खिलाफ 94 मिनट में 21-15 12-21 19-21 से हार झेलनी पड़ी थी जिससे इस भारतीय खिलाड़ी ने नंबर एक बनने का मौका गंवा दिया था।

इससे पहले सिंधू को विश्व चैंपियनशिप और रियो ओलंपिक के फाइनल में भी करीबी मुकाबलों में हार का सामना करना पड़ा। विश्व चैंपियनशिप में जापान की नोजोमी ओकुहारा के खिलाफ फाइनल मुकाबला 110 मिनट तक चला।

करीबी मुकाबलों में हार के बारे में पूछने पर सिंधू ने कहा कि वह इसे सीखने के अनुभव के तौर पर देखती हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘यह अच्छा है कि मैं फाइनल तक पहुंची। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि मैं कुछ करीबी मैच हार गई- विश्व चैंपियनशिप, दुबई में और इंडियन ओपन में। मुझे अपनी गलतियों से काफी कुछ सीखना है।’’

सिंधू ने इन हार में ग्लास्गो विश्व चैंपियनशिप की हार को सबसे निरशाजनक करार दिया।

उन्होंने कहा, ‘‘प्रत्येक टूर्नामेंट अलग होता है। मैं कहूंगी कि विश्व चैंपियनशिप सबसे अलग होती है। अन्य की तुलना में वह काफी लंबा मैच था, मेरे लिए सबसे लंबे मैचों में से एक।’’

सिंधू ने कहा कि प्रत्येक साल अनिवार्य 15 टूर्नामेंटों में खेलने के लिए यह महत्वपूर्ण है कि मानसिक और शारीरिक रूप से खुद को फिट रखा जाए।

टूर्नामेंट की अनिवार्य संख्या नहीं खेलने पर वैश्विक संस्था बीडब्ल्यूएफ द्वारा जुर्माने की संभावना के बारे में पूछने पर सिंधू ने कहा, ‘‘यह होता है (आर्थिक जुर्माना) लेकिन मुख्य चीज यह है कि आप खुद को फिट रखो। यह आपको देखना है कि किस टूर्नामेंट में खेलना है और किसमें नहीं।’’

सिंधू ने साथ ही मौजूदा 21 अंक की स्कोरिंग प्रणाली को प्राथमिकता दी।

उन्होंने कहा, ‘‘मैं 11 की जगह 21 को प्राथमिकता दूंगी। उन्होंने खिलाड़ियों से जवाब मांगा है और मैंने कहा है कि 21 अंक अच्छा है। वे प्रत्येक खिलाड़ी से समीक्षा मांग रहे हैं।’’