दक्षिण अफ्रीका को इस साल भारत से एक लाख पर्यटकों की उम्मीद

नयी दिल्ली, दक्षिण अफ्रीका पर्यटन उद्योग को उम्मीद है कि भारत से आने वाले पर्यटकों की संख्या इस साल बढ़कर एक लाख हो जाएगी। इसके साथ ही भारत होकर अफ्रीका जाने वाली उड़ानों में सीटें बढाने का प्रयास किया जा रह है।

साऊथ अफ्रीकन टूरिज्म की क्षेत्रीय महाप्रबंधक हेनली स्लैबर ने यहां ‘भाषा’ से कहा, ‘भारत हमारे लिए महत्वपूर्ण बाजार है लेकिन पर्यटकों आगमन के लिहाज से 2017 उम्मीदों के अनुरूप नहीं रहा। हम अपने लक्ष्य को हासिल नहीं कर पाए।’

उन्होंने कहा, ‘हमें पूरी उम्मीद है कि बदलते हालात के बीच साल 2018 में भारत से एक लाख पर्यटक दक्षिण अफ्रीका आएंगे।’

स्लैबर ने कहा कि भारत में नोटबंदी तथा माल व सेवा कर (जीएसटी) प्रणाली के कार्यान्वयन का असर पिछले साल यहां से दक्षिण अफ्रीका जाने वाले पर्यटकों की संख्या पर पड़ा। नवंबर 2017 तक यह संख्या 89,872 रही जो समूचे कैलेंडर वर्ष में 96000 के आसपास रहने की उम्मीद है।

इसके साथ ही भारत से दक्षिण अफ्रीका जाने वाली उड़ानों में सीटों की संख्या बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है ताकि पर्यटकों को आसानी रहे। इस समय अनेक अंतरराष्ट्रीय विमानन कंपनियां मुंबई व दिल्ली को दक्षिण अफ्रीका के शहरों से जोड़ती हैं।

दक्षिण अफ्रीकी पर्यटन के लिए भारत आठवां सबसे बड़ा बाजार है। यहां से दक्षिण अफ्रीका सबसे अधिक पर्यटक दिल्ली, मुंबई, गुजरात व बेंगलुरू से जाते हैं।

स्लैबर ने कहा कि युवा जनसंख्या, बदलती जीवन शैली, खर्च योग्य आय में बढ़ोतरी तथा पर्यटन को लेकर बदलती सोच के चलते यहां से बाहर जाने वाले लोगों की संख्या लगातार बढ़ी है। अपनी अनूठी संस्कृति, विविधि भौगोलिक दशाओं के चलते दक्षिण अफ्रीका उनके लिए आकर्षक गंतव्य साबित हो सकता है।