दिसंबर तक पटरी पर लौट आएगा गोवा का खनन उद्योग : पर्रिकर

पणजी, गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर इस बात को लेकर आशावान हैं कि फिलहाल संकटों से घिरा प्रदेश का लौह अयस्क खनन उद्योग इस वर्ष के अंत तक पटरी पर लौट आएगा।

गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने गोवा में 2015 में आवंटित 88 लौह अयस्क खादानों की लीज का नवीनीकरण करने से बुधवार को इनकार करते हुए कहा कि इस व्यापारिक गतिविधि के लिए काम कर रही सभी कंपनियों की एकमात्र मंशा अधिकतम लाभ कमाना है इससे कोई सामाजिक सरोकार जुड़ा हुआ नहीं है।

न्यायालय ने इन खादानों में 15 मार्च से काम बंद करने का आदेश दिया था।

मुख्यमंत्री ने कहा कि न्यायालय के आदेश में सिर्फ खनन लीज के बारे में कहा गया है उसमें खनन निर्यात पर कोई प्रतिबंध नहीं है।

न्यायालय के फैसले के प्रभाव पर किये गए सवाल के जवाब में पर्रिकर ने कहा, ‘‘हमारा खनन कार्य दिसंबर तक चलना है और मैं देख सकता हूं कि दिसंबर, 2018 तक खनन उद्योग पटरी पर लौट आयेगा।’’

यहां निजी उद्योग संगठनों की ओर से आयोजित गोवा बिजफेस्ट 2018 में चर्चा के दौरान कल पर्रिकर ने यह बात कही।

मुख्यमंत्री का कहना है कि अंतरिम कदम यह होगा कि खनन वाले क्षेत्र में कृषि कार्य शुरू कर दिया जाये जैसा कि सरकार ने न्यायालय द्वारा खनन गतिविधियों पर पहली बार प्रतिबंध लगाए जाने पर 2012-13 में किया था।