तीन तलाक विधेयक मुस्लिम पुरूषों को दंडित करने की एक चाल: ओवैसी

औरंगाबाद (महाराष्ट्र),  ऑल इंडिया मजिलस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने आरोप लगाया कि तीन तलाक विधेयक मुस्लिमों के खिलाफ एक साजिश है और समुदाय के पुरूषों को दंडित करने की एक चाल है।

हैदराबाद से लोकसभा सदस्य ने केंद्र सरकार पर तीखा हमला करते हुए कहा कि ‘पद्मावत’ फिल्म से जुड़े विवाद के मामले पर संसद की एक समिति ने विचार किया था लेकिन तीन तलाक के मुद्दे को लेकर ऐसा कोई कदम नहीं उठाया गया।

उन्होंने कल रात एक जनसभा में कहा, ‘‘तीन तलाक विधेयक मुस्लिम समुदाय के खिलाफ एक साजिश है। यह समुदाय की महिलाओं को सड़कों पर लाने और पुरूषों को जेल भेजने की एक चाल है।’’

ओवैसी ने हालांकि कहा कि मुस्लिम समुदाय को उनलोगों का सामाजिक बहिष्कार करना चाहिए जो तलाक के लिए तीन तलाक का सहारा लेते हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के लिए कुछ नहीं कर रहे लेकिन दूसरों द्वारा किए जाने वाले अच्छे काम का श्रेय लेने में हमेशा आगे रहते हैं।

सांसद ने कहा, ‘‘भाजपा मुस्लिम मुक्त भारत चाहती है और ऐसा होगा नहीं।’’

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार वी डी सावरकर की विचारधारा थोपने की कोशिश कर रही है।

ओवैसी ने कहा, ‘‘एम एस गोवलकर, के बी हेडगेवार और सावरकर हिंदुत्व विचारधारा के थे और हम इसे स्वीकार नहीं करेंगे।’’