त्रिकोणीय सीरीज में खुद को साबित करना चाहेंगे बांग्लादेश, श्रीलंका और जिम्बाब्वे

ढाका, बांग्लादेश, श्रीलंका और जिम्बाब्वे की टीमें जब कल यहां ढाका में त्रिकोणीय एक दिवसीय टूर्नामेंट में एक दूसरे से भिड़ेंगी तो उनकी निगाहें खुद को साबित करने पर लगी होंगी।

घरेलू देश की टीम बिना कोच के है और अभी तक दक्षिण अफ्रीका के निराशाजनक दौरे की निराशा से नहीं उबरी है। श्रीलंका भी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे हताशाजनक वर्ष से गुजरी है। दक्षिण अफ्रीका ने हाल में जिम्बाब्वे को रौंदा था, जिससे मार्च में होने वाले अहम विश्व कप क्वालीफाइंग टूर्नामेंट की तैयारियों को करारा झटका लगा।

यह त्रिकोणीय टूर्नामेंट ढाका के शेरे बांग्ला स्टेडियम में आयोजित किया जायेगा और यह एक साल से ज्यादा समय में बांग्लादेश की पहली घरेलू सीरीज है जो अक्तूबर में दक्षिण अफ्रीका में तीन करारी वनडे शिकस्त के बाद हो रही है।

बांग्लादेश हाल के दिनों में मजबूत एक दिवसीय टीम बनी थी और पिछले साल चैम्पियंस ट्राफी के सेमीफाइनलमें पहुंची। लेकिन दक्षिण अफ्रीका ने उन्हें 10 विकेट, 104 रन और 200 रन से करारी शिकस्त देकर उनका मनोबल गिरा दिया।

बांग्लादेश के कप्तान मशरफी मुर्तजा ने कहा, ‘‘यह त्रिकोणीय टूर्नामेंट हमारे लिये सचमुच काफी महत्वपूर्ण है। दक्षिण अफ्रीका के दौर के बाद सभी निराश हैं। अब अगर हम इस टूर्नामेंट को जीत लेते हैं तो सब बदल जायेगा। ’’

कोच चंडिका हाथुरूसिंघा के इस्तीफे के बाद चीजें और मुश्किल हो गयी हैं, उन्होंने दक्षिण अफ्रीका दौरे के बीच में यह फैसला किया था, हालांकि इसे दिसंबर में सार्वजनिक किया गया।

पूर्व विश्व कप विजेता श्रीलंका ने 2017 में 29 वनडे में से केवल पांच में जीत दर्ज की। देश के क्रिकेट अधिकारियों ने जुलाई में आल राउंडर एंजेलो मैथ्यूज के कप्तानी पद से हटने के बाद छह महीनों में दो बार कप्तान बदल दिये।

‘अंडरडॉग’ जिम्बाब्वे की टीम कल पहले मुकाबले में बांग्लादेश से भिड़ेगी और मार्च में विश्व कप 2019 क्वालीफाइंग टूर्नामेंट की मेजबानी से पहले आत्मविश्वास बढ़ाने का प्रयास करेगी।

पिछले महीने उन्हें दक्षिण अफ्रीका में पारी और 120 रन से एकमात्र टेस्ट गंवाना पड़ा जो ऐतिहासिक चार दिवसीय दिन रात्रि टेस्ट रहा। मैच केवल 907 गेंद का रहा।

कोच हीथ स्ट्रीक ने संकेत दिया है कि जिम्बाब्वे की टीम टेस्ट मैचों में सीमित मौको के कारण अपना ध्यान वनडे मुकाबलों पर केंद्रीत करेगी।

तीनों टीमें दो हफ्तों तक चलने वाले टूर्नामेंट में दो दो बार एक दूसरे से भिड़ेंगी और फाइनल 27 जनवरी को होगा।