भारतीय क्रिकेट की धरोहर साबित हो सकते हैं पंड्या : क्लूसनर

केपटाउन,  दक्षिण अफ्रीका के पूर्व हरफनमौला लांस क्लूसनर ने कहा कि हार्दिक पंड्या भारत के लिये बेहतरीन हरफनमौला साबित हो सकते हैं ।

पंड्या ने पहले टेस्ट में 95 गेंद में 93 रन बनाये और दक्षिण अफ्रीका की दूसरी पारी में 27 रन देकर दो विकेट लिये ।

क्लूसनर ने प्रेस ट्रस्ट से कहा ,‘‘ भारत की पहली पारी में उसकी बल्लेबाजी बेहतरीन थी । उसने टीम को दबाव से निकालकर दक्षिण अफ्रीका पर दबाव बनाया । वह भारत के लिये धरोहर साबित होगा । अभी वह सीख रहा है और अगर अपनी गेंदबाजी में रफ्तार शामिल कर ले तो उम्दा हरफनमौला बन सकता है ।’’ पंड्या अपने संक्षिप्त कैरियर में ही टीम का अभिन्न हिस्सा बन गए हैं । सीमित ओवरों के क्रिकेटमें उनका रिकार्ड बल्ले और गेंद दोनों से शानदार है ।

क्लूसनर ने कहा ,‘‘ वह भविष्य में शानदार हरफनमौला साबित होगा । कई मौकों पर नाकामी भी मिलेगी लेकिन उसे सकारात्मक सोच के साथ हौसलाअफजाई की जरूरत है ।’’ उन्होंने कहा ,‘‘ वह आईपीएल में मुंबई इंडियंस के लिये खेले या भारतीय टीम के लिये, उसके पास पास अच्छे लोग है और यह उनकी जिम्मेदारी है कि उसकी प्रतिभा को तराशें ।’’ भारत ने टेस्ट श्रृंखला से पहले एकमात्र अभ्यास मैच नहीं खेला और क्लूसनर इसके हिमायती नहीं हैं ।

उन्होंने कहा ,‘‘अभ्यास मैच खेलना हमेशा अच्छा होता है । यदि भारतीय टीम उपमहाद्वीप के दौरे पर होती तो अभ्यास मैच नहीं खेलने से कोई फर्क नहीं पड़ता लेकिन दक्षिण अफ्रीका में खेलने से पहले अभ्यास मैच से अनुकूलन में मदद मिलती ।’

क्लूसनर ने कहा ,‘‘यदि दक्षिण अफ्रीकी टीम भारत दौरे पर होती तो उपमहाद्वीप के हालात में ढलने के लिये कम से कम एक अभ्यास मैच जरूर खेलती ।’’ उन्होंने कहा कि पहले मैच में मिली हार से भारत को कई सबक सीखने हैं ।

उन्होंने कहा ,‘‘भारत पहले मैच की हार से काफी कुछ सीख सकता है । पंड्या यदि वह पारी नहीं खेलता तो परिणाम और बदतर होता । भारत के लिये यह सबक है और अब उसे अधिक मजबूती से तेज गेंदबाजों की चुनौती का सामना करना होगा ।’’ क्लूसनर ने कहा ,‘‘ दक्षिण अफ्रीका में हमेशा आपको तेज आक्रमण का सामना करने के लिये तैयार रहना होगा । उन्होंने चार तेज गेंदबाजों को उतारा । भारत के लिये यह चुनौतीपूर्ण था खासकर तब जबकि वे अभी श्रीलंका से खेलकर आये हैं ।’’ उन्होंने कहा ,‘‘ अपनी सरजमीं पर उस श्रृंखला में भारत को असली तेज आक्रमण झेलना नहीं पड़ा । इस टेस्ट में उन्होंने संघर्ष किया लेकिन छोटे लक्ष्य का पीछा करते हुए हार गए । यह काफी निराशाजनक होगा ।’’ उन्होंने भारतीय गेंदबाजों की तारीफ करते हुए कहा ,‘‘ दक्षिण अफ्रीका के तेज गेंदबाजों की तुलना में उनके पास रफ्तार की कमी थी लेकिन उनकी लैंग्थ कमाल की थी । अतीत में भारतीय तेज गेंदबाज यहां आकर उछाल से धोखा खा जाते थे लेकिन इस बार उन्होंने फुललैंग्थ गेंद डाली और रणनीति पर बखूबी अमल किया ।’’

Leave a Reply