टीवी पर अच्छा संदेश देने वाले पारिवारिक रिश्ते पहली पसंद

उज्जैन। ये रिश्ता क्या कहलाता फेम कांची सिंह शुक्रवार को उज्जैन पहुंची। वे श्री सिटी प्रेस क्लब कार्यालय में पत्रकारों से रूबरू हुई तथा बाल कलाकार से लेकर अब तक सीरियलों में काम करते हुए बिताए अपने 17 सालों के सफर के बारे में बताया।

प्रारंभ में अध्यक्ष संदीप मेहता एवं सचिव राजेश कुल्मी ने कांची सिंह का पुष्प गुच्छ भेंटकर स्वागत किया। मूल रूप से इंदौर की निवासी कांचीसिंह ने कहा कि 4 साल की छोटी उम्र से ही बाल कलाकार के रूप में काम शुरू किया। उन्होंने राजबब्बर की पत्नी नादिरा बब्बर द्वारा निर्मित नाटकों में काम किया तथा 10वीं से नाटकों में आई। डेढ़ वर्ष से कई सीरियलों में मुख्य भूमिका में काम किया। उनकी मंशा है कि बॉलीवुड की अभिनेत्री बनूं। कांची ने कहा कलाकार कहीं का भी हो यदि मेहनत करता है, खूद पर ध्यान देकर, सही संपर्कों के माध्यम से चले तो फिल्मी दुनिया में कदम जमा सकते हैं। ऐसा नहीं है कि टीवी शो, रियलिटी शो में सिर्फ बॉम्बे से लोग आते हैं आज ज्यादातर गुजरात, मध्यप्रदेश, राजस्थान सहित अन्य शहरों से भी लोग यहां आ रहे हैं और अपनी जगह बना रहे हैं। आज भी लोग फिल्मों से ज्यादा टीवी सीरियलों को देखते हैं और पारिवारिक रिश्ते तथा अच्छा संदेश देने वाले सीरियल पसंद किये जाते है। कांची के साथ पिता आर.पी. सिंह भी मौजूद थे उन्होंने कहा मैने मेरी बेटी को पूरा अवसर दिया है। आत्मविश्वास को बढ़ाने के लिए हर प्रयास किये कांति पर मुझे पूरा विश्वास है। यदि हम अपने बच्चों को अच्छा मार्गदर्शन दे प्रोत्साहित करें तो बच्चे हर मुकाम हांसिल कर सकते हैं। कांची की माता भी रंगमंच की कलाकार रही हैं।

Leave a Reply