किसानों को अधिकतम नगद भुगतान हेतु आयकर आयुक्त ने ली मंडी व्यपारियों की बैठक

उज्जैन | मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा किसानों को 50 हजार रू. तक की राशि नगद भुगतान करने के निर्देश अनुसार मंडी उज्जैन द्वारा किसानों को अधिकतम नगद राशी भुगतान किये जाने हेतु निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं | इसी कड़ी में आज कृषि उपज मंडी उज्जैन में आयकर आयुक्त श्री एस.एल.मीणा जी, सहायक आयुक्त आयकर सतीश सोलंकी की मंडी के व्यापारियों से बैठक सांसद डॉ.चिंतामन मालवीय के साथ अध्यक्ष बहादुर सिंह बोरमुंडला की अध्यक्षता में कराई गई, व्यापारियों की और से बैठक में व्यापारी महासंघ के अध्यक्ष गोपालदास अग्रवाल भी उपस्थित थे | उपस्थित अधिकारीयों द्वारा केंद्रशासन वित्त विभाग के पत्र क्र. 27/2017 दिनांक 03/11/2017 का उल्लेख करते हुए किसानों को अधिकतम नगद भुगतान किये जाने का हवाला दिया गया, किन्तु व्यापारी महासंघ के अध्यक्ष गोपालदास अग्रवाल एवं उज्जैन व्यापारी संघ के वरिष्ठ व्यापारी श्री रामगोपाल अग्रवाल द्वारा उक्त अधिनियम में  कृषक की परिभाषा स्पष्ट नहीं होने से आने वाले समय में आयकर अधिनियम के तहत परेशानी आने का उल्लेख किया गया, मंडी अध्यक्ष एवं सांसद द्वारा व्यापारी बंधुओं को समझाया गया कि जब तक कृषक की परिभाषा केंद्र शासन द्वारा स्पष्ट नहीं की जाती तब तक मंडी में कम मात्रा में अपनी उपज लाने वाले किसानों को 20 हजार तक नगद भुगतान करने हेतु कहा गया, व्यापारियों द्वारा इस बात पर आश्वस्त किया गया कि वह दस हजार रू. तो हर किसान को नगद देंगे ही यदि किसी कृषक को अतिरिक्त आवश्यकता होगी तो उसकी पूर्ती की जावेगी किसी भी परिस्थिति में मंडी में किसानों को परेशान नहीं होने दिया जावेगा | बैठक में मंडी उपाध्यक्ष शेरू पटेल, संचालक गण विक्रम सिंह पटेल, श्री मति चन्द्रकला शोभाराम मालवीय, सिद्धनाथ चौहान, सतीश राजवानी, सदस्य व्यापारी मुकेश हरभजनका, व्यापारी संघ के महामंत्री प्रकाश तल्लेरा, व्यापारी संघ से संतोष गर्ग, जीतेन्द्र अग्रवाल, गोविन्द खंडेलवाल, संतोष गाडिया, हजारीलाल मालवीय, राजेश हरभजनका, कैलाश बोडाना आदि उपस्थित थे |

            बैठक में व्यापारियों द्वारा त्वरित भुगतान नहीं करने पर कड़ी कार्यवाही करने हेतु सचिव मंडी को निर्देशित किया गया | मंडी सचिव राजेश गोयल द्वारा आगंतुक आयकर आयुक्त श्री.एस.एल.मीणा एवं सांसद डॉ.चिन्तामणि मालवीय का आभार व्यक्त किया गया |

Leave a Reply