‘ओमेर्टा’ जैसी फिल्में दिमागी सेहत को प्रभावित करती हैं : राजकुमार

मुंबई,  अभिनेता राजकुमार राव ने बहुत सी फिल्मों में असाधारण भूमिकाएं निभाई हैं फिर चाहे बात “शाहिद” की हो या “ट्रैप्ड” की या फिर कुछ दिनों में रिलीज होने जा रही “ओमेर्टा” जैसी फिल्मों की हो। इन फिल्मों की अनोखी भूमिकाओं को चुनने में वह कभी पीछे नहीं हटे लेकिन उनका कहना है कि गंभीर मुद्दों पर बनने वाली फिल्में कलाकारों की मानसिक सेहत को नुकसान पहुंच सकती हैं।

उन्होंने बॉलीवुड की “बरेली की बर्फी” और “क्वीन” जैसी मनोरंजक फिल्मों में भी काम किया है और उनका कहना है कि दोनों ही तरह की फिल्में चुनौतीपूर्ण होती हैं।

उन्होंने कहा, “दोनों तरह का सिनेमा करना मुश्किल है क्योंकि उनकी अपनी-अपनी चुनौतियां हैं। “ओमेर्टा”, “ट्रैप्ड” जैसी फिल्में करना आपकी दिमागी सेहत को प्रभावित कर सकता हैं, जबकि ‘बरेली की बर्फी’ जैसी फिल्म करने से आप पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।” राजकुमार यह बातें यहां आयोजित एक कार्यक्रम से इतर बोल रहे थे।

अपनी अगली फिल्म “फन्ने खां” में राजकुमार राव एश्वर्या राय बच्चन के साथ नजर आएंगे। फिल्म में अनिल कपूर मुख्य भूमिका में हैं। फिल्म में अपने किरदार के लिए उन्होंने 10 किलोग्राम वजन घटाया है।