आयुर्वेद हमारी अमूलय धरोहर है, इसे बढ़ाना है : संभागायुक्त श्री ओझा

उज्जैन। प्रधानाचार्य डॉ. जे.पी. चौरसिया ने बताया कि भारत सरकार के आयुष मंत्रालय, नई दिल्ली द्वारा राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस घोषित किया है। शासकीय स्वशासी धन्वन्तरि आयुर्वेद महाविद्यालयीन चिकित्सालय, चिमनगंज में दर्द निवारण हेतु आयोजित नि:शुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया। शिविर में निर्गण्डी क्वाथ तथा दर्द निवारक तेल नि:शुल्क वितरित किया गया।
कार्यक्रम की मुख्य अतिथि श्रीमती मीना जोनवाल, महापौर ने आयुर्वेद की लोकप्रियता को रेखांकित करते हुए इस संस्था को पूर्ण सहयोग की प्रतिबद्धता जताई है। साथ ही महाविद्यालय के विकास के लिए अमृत योजना का लाभ दिलाने का आश्वासन भी दिया है।कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए संभागायुक्त श्री एम.बी. ओझा ने कहा कि आयुर्वेद हमारी भारतीय संस्कृति की अमूल्य धरोहर है। अनेक रोगों का स्थायी उपचार आयुर्वेद से संभव है, शासन-प्रशासन आपके साथ है, पूरी निष्ठा से सभी चिकित्सा और कर्मचारी पारिवारिक माहौल में कार्य करेंगे तो यह संस्था एक दिन प्रदेश और देश में अपना उत्कृष्ट स्थान बनाएगा।
कार्यक्रम के प्रारंभ में भगवान धन्वन्तरि के पूजन-अर्चन पश्चात प्रधानाचार्य डॉ. जे.पी. चौरसिया द्वारा स्वागत भाषण दिया गया। पुष्पमालाओं से अतिथियों का स्वागत किया गया। विशेष अतिथि के रूप में जिलाधीश संकेत भोंडवे, डॉ. बी.के. गुप्ता, महाविद्यालयीन चिकित्सालय के अधीक्षक डॉ. ओ.पी. व्यास एवं वरिष्ठ नागरिक सुरेशचन्द्र दुबे, हरिहर शर्मा, ए.के. भटनागर, प्रदीप जैन, आनंदीलाल जोशी आदि उपस्थित रहे। साथ ही संहिता विभाग द्वारा एक प्रदर्शनी का आयोजन किया गया। जिसमें चरक, सुश्रुत, वागभट्ट, भावप्रकाश, माधव निदान एवं शारंगधर संहिता का प्रदर्शन किया गया। साथ ही सीनियर सिटीजन हेतु रसायन बाजीकरण द्रव्यों से युक्त ओ.पी.डी. का शुभारंभ किया गया। डॉ. रामरक्ष शुक्ला, डॉ. प्रियेश दीक्षित के निर्देशन में किया जाएगा।
संभागायुक्त एवं जिलाधीश महोदय द्वारा पंचकर्म विभाग, फिजियोथेपेपी, ऑपरेशन थियेटर, प्रसव इकाई, नवजात इकाई, अग्रिकर्म जलौका इकाई, नैत्र रोग इकाई क्रियाकल्प, पैथालॉजी विभाग, एक्स-रे, ई.सी.जी., टी.एम.टी. आदि का निरीक्षण कर चिकित्सालय की प्रगति की सराहना की। अंत में आभार प्रदर्शन अधीक्षक डॉ. ओ.पी. व्यास ने किया। मंच संचालन डॉ. वेदप्रकाश व्यास ने किया। इस अवसर पर महाविद्यालय के प्राध्यापक, विशेषज्ञ, चिकित्सक, कर्मचारी, हाउस फिजिशियन, इंटर्न छात्र-छात्राएँ बड़ी संख्या में उपस्थित रहे। चिकित्सा शिविर में २५७ रोगियों को दर्दनाशक तेल एवं अन्य चिकित्सालय में उपलब्ध औषधियाँ वितरित की गई। हिमालया कंपनी द्वारा ब्लड शुगर चेक की जांच कंपनी के मैनेजर मनोज उपाध्याय, रोशन सावंत एवं श्री त्यागी की टीम द्वारा की गई। महाविद्यालय परिसर में स्थित भगवान धन्वन्तरि टेकरी पर प्रधानाचार्य डॉ. जे.पी. चौरसिया द्वारा दोपहर १२.३० बजे भगवान धन्वन्तरि प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर हवन-पूजन किया गया। शासकीय आयुर्वेद औषधालय बुधवारिया में राज्यमंत्री का दर्जा प्राप्त रमेशचन्द्र शर्मा एवं संभागीय आयुष अधिकारी डॉ. प्रदीप कटियार, जिला आयुष अधिकारी डॉ. ओ.पी. पालीवाल द्वारा भगवान धन्वन्तरि का पूजन किया गया, जिसमें डॉ. रामतीर्थ शर्मा, डॉ. सुनीता डीराम उपस्थित रहे। यह जानकारी डॉ. प्रकाश जोशी ने दी।