खेलों में युवाओं को निखारने के लिये पूर्व खिलाड़ियों की मदद लेगी सरकार : राठौड़

जयपुर, केन्द्रीय युवा एवं खेल राज्य मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने आज कहा कि ओलंपिक के लिये दमदार खिलाड़ियों की खोज में सभी पूर्व खिलाड़ियों की मदद ली जाएगी और इनमें वे खिलाड़ी भी शामिल हैं जो अभी गुमनामी में जिंदगी जी रहे हैं।

राठौड़ ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ सरकार युवा खिलाड़ियों को प्रशिक्षण देने के लिए किसी अन्य काम में व्यस्त पूर्व के पदक विजेताओं का सहयोग लेने पर विचार कर रही है। सरकार युवाओं को खेलों के प्रति आकर्षित करने और खेलों को बढावा देने के लिए व्यक्तिगत स्तर पर प्रशिक्षण देने वाले खिलाडियों, स्वंयसेवी संगठनों का भी सहयोग लेने से नहीं हिचकेगी। खेल मंत्रालय ऐसे खिलाडियों ,एनजीओ, निजी खेल संस्थानों को मदद देगा। ’’ खेल मंत्री ने इस अवसर पर ओलम्पिक के लिये दमदार खिलाड़ियों की खोज के लिये दिसंबर और जनवरी में नयी दिल्ली में खेलो इंडिया स्कूल खेल और खेलो इंडिया कालेज खेल के आयोजन की घोषणा की। इनका आयोजन हर साल किया जाएगा।

उन्होंने कहा, ‘‘ स्कूल और कालेज स्तर पर खेलों में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले खिलाडियों को सामने लाने के लिए खेलो इंडिया स्कूल खेल और खेलो इंडिया कालेज खेल कराये जाने का निर्णय लिया है । कई खिलाडी स्कूल और कालेज स्तर पर बढिया खेलते हैं लेकिन किसी वजह से प्रदेश या राष्ट्रीय स्तर पर नहीं पहुंच पाते या अन्य कारणों की वजह से टीम में आने से वंचित रह जाते हैं। उन खिलाडियों को सामने लाने के लिए यह आयोजन करने का निर्णय लिया गया है।’’ राठौड़ ने कहा कि शुरूआत में दोनों वर्ग के खेलों में ओलंपिक खेलों में शामिल हाकी, फुटबाल समेत 16 खेलों को शामिल किया जायेगा और अधिकतर खेलों का चैनल पर प्रसारण होगा जबकि कुछ खेलों का वीडियो तैयार करके अगले दिन प्रसारण किया जायेगा।’’ उन्होंने कहा, ‘‘खेलो इंडिया स्कूल खेलकूद में 17 साल से कम आयु वर्ग और खेलो इंडिया कालेज खेलों में 21 साल से कम आयु वर्ग के खिलाडियों को शामिल किया जाएगा । शुरूआत में ये खेल दिल्ली में होंगे। अगला आयोजन किस स्थान पर होगा इसका निर्णय बाद में किया जाएगा।’’ खेल मंत्री ने कहा, ‘‘दोनों वर्गो में चयनित एक एक हजार खिलाडियों को खेल की तैयारी के लिए हर साल पांच लाख रूपये आठ साल तक दिये जायेंगे । हमारा मकसद बेहरीन खिलाडी को सामने लाना है ताकि ओलम्पिक में भारत सिरमौर बने ।’’ एक अन्य प्रश्न के जवाब में कहा कि खेलों में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले राज्यों को मंत्रालय की ओर से विशेष सम्मान दिया जायेगा , मौजूदा समय खेल क्षेत्र में कुछ राज्यों का वर्चस्व है ,अन्य राज्य भी खेलों में आगे बढे ।

Leave a Reply