मप्र कांग्रेस के प्रभारी बनने के एक माह बाद बावरिया पहुंचे भोपाल

भोपाल, कांग्रेस के नवनियुक्त महासचिव एवं मध्यप्रदेश प्रभारी दीपक बावरिया आज अपने दो दिवसीय प्रवास पर राजधानी भोपाल पहुंचे। प्रदेश प्रभारी नियुक्त होने के ठीक एक माह बाद बावरिया पहली बार आये हैं।

यहां रेलवे स्टेशन पर बावरिया के स्वागत में आये कांग्रेस के विभिन्न गुटों के कार्यकर्ताओं के बीच आपस में जमकर धक्कामुक्की और नारेबाजी की। बाद में कांग्रेस कार्यकर्ताओं का एक समूह उन्हें अपने साथ लेकर सर्किट हाउस पहुंच गया। बाद में अन्य गुटों के कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता भी पहुंचे और वहां बावरिया से मुलाकात की।

अगले साल प्रदेश में विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश कांग्रेस प्रभारी बनाये गये बावरिया इसके बाद प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पहुंचे और पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अरूण यादव सहित पार्टी पदाधिकारियों से मुलाकात की।

प्रदेश कांग्रेस के प्रभारी पद से मोहन प्रकाश के हटने के बाद से पार्टी आलाकमान द्वारा यहां प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अरूण यादव को हटाकर उनके स्थान पर लोकसभा में कांग्रेस के मुख्य सचेतक ज्योतिरादित्य सिंधिया को प्रदेश कांग्रेस का मुखिया बनाने की अटकलें चल रही हैं।

हाल ही में गुना के दौरे पर आये कमलनाथ ने कहा कि यदि कांग्रेस अगले विधानसभा चुनाव में ज्योतिरादित्य सिंधिया को मुख्यमंत्री का चेहरा बनाती है तो उन्हें इससे कोई समस्या नहीं है।

कमलनाथ के बयान के बाद प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय ने जबलपुर में संवाददाताओं से कहा कि मध्यप्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अरूण यादव और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह अच्छा काम कर रहे है।

सिंधिया पर उन्होंने कहा कि प्रदेश में मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर किसे पेश करना है, इस बारे में कांग्रेस अध्यक्ष और उपाध्यक्ष राहुल गांधी अंतिम फैसला करेंगे और उसका सम्मान किया जायेगा। लेकिन इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वर्ष 2003 में मध्यप्रदेश में कांग्रेस बिना किसी नेता को मुख्यमंत्री के तौर पर पेश किये सत्ता में आयी थी और मात्र 12 घंटे में कांग्रेस ने अपना नेता :दिग्विजय: चुन लिया था।

साथ ही दिग्विजय ने कहा कि वह मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव में वह मुख्यमंत्री पद के संभावित उम्मीदवारों में शामिल नहीं हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैं इस पद की दौड़ में नहीं हूं।’’ बावरिया कल प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में कांग्रेस विधायकों के साथ चर्चा के बाद नगरीय निकायों एवं पंचायतों में निर्वाचित पार्टी के जनप्रतिनिधियों की बैठक लेंगे।

Leave a Reply