सिंहस्थ चुनौती भरा मिशन था

उज्जैन। सिंहस्थ चुनौतीभरा मिशन था, मगर सहअधिकारी व कर्मचारी ने कंधे से कंधा मिलाकर इस चुनौती को पूरा किया। मेरे जन्मदिवस अवसर पर मुझे स्थानान्तरण होने पर आयेाजित विदाई समारोह आयोजित कर अधिकारी-कर्मचारियों ने मन मोह लिया है। मेरे चार साल के कार्यकाल में उज्जैन यातायात अधिकारी व कर्मचारी ने मुझे जो सहयोग दिया उसका ऋण मैं ताउम्र तक अदा नहीं कर पाऊँगा। क्योंकि मोहब्बत की कोई कीमत नहीं होती। चाहे छोटा कर्मचारी हो या बड़ा सभी ने जो मुझे सहयोग प्रदान किया है, उससे मुझे सिंहस्थ को सफल बनाने में काफी सहयोग दिया है। 20 से 18 घण्टे की नौकरी चाहे सैनिक हो चाहे सह अधिकारी मुस्कराते हुए ड्यूटी करते थे। इन्हीं का साहस देखकर ही मैंने ऐसे सिंहस्थ को सफल बनाया। यह बात उपपुलिस अधीक्षक यातायात श्री राजेन्द्रसिंह ठाकुर ने अपने स्थानान्तरण पर आयोजित विदाई समारोह के दौरान कही। विदाई समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में अति. पुलिस अधीक्षक विनायक वर्मा, अध्यक्षता डीएसपी संतोष उपाध्याय, विशेष अतिथि के रूप में डीएसपी द्वय श्री हरिनारायण बाथम, श्री बी.एल. बुनकर व थाना प्रभारी सुश्री सुप्रीया चौधरी, हेमसिंह वर्मा थाना प्रभारी, थाना प्रभारी श्रीमती ज्योति सोलंकी, सूबेदार सर्वश्री राकेश तिवारी, श्रीमती उर्मिला चौहान, संजयसिंह राजपूत, धनंजय शर्मा, राकेश तिवारी, रवि चौबे एस.पी. स्टेनो, पीटीएसआरआई जयसिंह तोमर, लाइन आरआई सौरभ तिवारी आदि अधिकारियों व कर्मचारियों ने बाबा महाकाल का चित्र भेंट कर श्री ठाकुर का सम्मान किया। उक्त जानकारी उपपुलिस अधीक्षक हरिनारायण बाथम ने दी।

Leave a Reply