मुख्यमंत्री ने हमारी इच्छा पूरी कर पुण्य का कार्य किया है –तीर्थयात्री

मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना के पांच वर्ष पूरे होने पर आज विक्रम कीर्ति मन्दिर में समारोह आयोजित किया गया। इसमें विगत यात्राओं में ग्रामीण क्षेत्रों से गये यात्री बड़ी संख्या में शामिल हुए और सभी ने एकमत से यात्रा की व्यवस्थाओं को सराहा और इच्छा जाहिर की कि यदि सरकार भेजेगी तो वे एक बार फिर से इस यात्रा में जाना चाहते हैं। ग्राम बोलासा के बुजुर्ग श्री रामलाल राजोरिया ने मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की मुक्तकंठ से सराहना करते हुए कहा कि उनके बच्चे इस लायक नहीं हैं कि उनको तीर्थयात्रा के लिये भेजें। मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना की बदौलत ही वे जगन्नाथपुरी की यात्रा कर पाये हैं। इसी तरह के उद्गार लेकोड़ा के श्री प्रभुलाल, ग्राम दुधरसी की श्रीमती भागवन्ताबाई एवं अन्य यात्रियों ने प्रकट किये।

इसके पूर्व कार्यक्रम की शुरूआत मां सरस्वती के चित्र के संमुख दीप प्रज्वलित कर की गई। इस अवसर पर सांसद डॉ.चिन्तामणि मालवीय, जनअभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डेय, महापौर श्रीमती मीना जोनवाल, जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री भरत पोरवाल, श्री श्याम बंसल, कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे, अपर कलेक्टर श्री बसन्त कुर्रे एवं जिला पंचायत के अतिरिक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री केएल मण्डलोई मौजूद थे।

इस अवसर पर सम्बोधित करते हुए सांसद डॉ.चिन्तामणि मालवीय ने कहा कि मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना से प्रदेश को एक परिवार का रूप दे दिया गया है। इस यात्रा से ऐसे बुजुर्ग लाभ ले रहे हैं जो गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन कर रहे थे और उन्होंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि वे रामेश्वरम, बद्रीनाथ, जगन्नाथपुरी, द्वारका जैसे तीर्थों की यात्रा कर पायेंगे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री की यह योजना अत्यन्त सफल योजनाओं में से एक है और इसे देश के नौ राज्यों ने अपनाया है।
जनअभियान परिषद के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डेय ने कहा कि तीर्थयात्रा का मतलब किसी न किसी पुण्यभूमि को छूकर आना है। तीर्थ दर्शन करने वाले भाग्यशाली हैं। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री अन्त्योदय में यकीन करने वाले हैं और उन्होंने इस योजना के माध्यम से सिद्ध कर दिया है कि अन्तिम पंक्ति में खड़े व्यक्ति को भी अपने जीवन में यात्रा करने का हक है। उन्होंने मां तुझे सलाम योजना के बारे में भी जानकारी दी। महापौर श्रीमती मीना जोनवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना में नगर निगम की टीम सतत रूप से लगी हुई है और नगर के वरिष्ठ नागरिकों को हर प्रकार की सहायता प्रदान करते हुए उन्हें तीर्थ यात्राएं करवाई जा रही हैं। श्री श्याम बंसल ने कहा कि मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन यात्रा निश्चित रूप से अपने उद्देश्य को प्राप्त करने में सफल हुई है। शासन पर समाज के सभी वर्गों की मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति करने की जिम्मेदारी होती है। इसी के तहत मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन यात्रा संचालित की जा रही है। उन्होंने बताया कि वर्ष 2022 तक सभी गरीबों के लिये पक्के मकान बनाये जायेंगे और उज्ज्वला योजना के तहत गैस किट प्रदान किये जायेंगे।

कार्यक्रम में कलेक्टर श्री संकेत भोंडवे ने बताया कि मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना ने पांच सफलतम वर्ष पूरे किये हैं। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत ज्यादातर प्रवास ट्रेन से होता है, इसलिये जिले से अनुरक्षक व पर्यवेक्षकों की ड्यूटी यात्रियों की सहायता के लिये लगाई जाती है। कलेक्टर ने बताया कि 2012 से प्रारम्भ हुई इस योजना में अब तक जिले के 12 हजार 612 यात्रियों द्वारा 22 तीर्थ स्थानों की यात्रा सम्पन्न की गई है। हाल ही में असम स्थित कामाख्या देवी मन्दिर को भी तीर्थ स्थानों की सूची में शामिल किया गया है और इसके लिये आगामी 5 सितम्बर को तीर्थयात्रा जायेगी। कार्यक्रम में जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री भरत पोरवाल ने भी सम्बोधित किया तथा कहा कि मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना से निश्चित रूप से ग्रामीण एवं शहरी बुजुर्ग लाभान्वित हो रहे हैं। कार्यक्रम का संचालन श्रीमती कविता उपाध्याय ने किया।