महंगाई के आंकड़ों, भू राजनीतिक घटनाक्रमों से तय होगी बाजार की दिशा

मुंबई, मुद्रास्फीति के आंकड़ों तथा अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच बढ़ते तनाव को लेकर घटनाक्रमों से इस सप्ताह कम कारोबारी सत्र वाले शेयर बाजारों की दिशा तय होगी। विशेषज्ञों ने यह राय जताई है।

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘फिलहाल मुखौटा कंपनियों के खिलाफ सेबी की कार्रवाई से घरेलू बाजारों का भरोसा डिगा हुआ है, जिससे निकट भविष्य में तरलता की स्थिति प्रभावित होगी। आगे चलकर बाजार उपभोक्ता मूल्य सूचकांक और थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति के आंकड़ों से दिशा लेगा। भू राजनीतिक तनाव यदि बढ़ता है तो इसका भी बाजार पर असर दिखाई देगा।’’ मंगलवार को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बाजार बंद रहेंगे।

सोमवार को कोल इंडिया, आईडीबीआई तथा टाटा पावर जैसी कंपनियों के तिमाही नतीजे आएंगे।

एचडीएफसी सिक्योरिटीज के निजी ग्राहक समूह के कारोबार प्रमुख वी के शर्मा ने कहा, ‘‘सप्ताह के दौरान भू राजनीतिक घटनाक्रम हमारे बाजारों को प्रभावित करेगा।’’ बीते सप्ताह बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स 1,111.82 अंक या 3.43 प्रतिशत टूट गया। वहीं नेशनल स्टाक एक्सचेंज के निफ्टी में 355.60 अंक या 3.53 प्रतिशत की गिरावट आई।

सेबी द्वारा 331 संदिग्ध मुखौटा कंपनियों पर रोक के फैसले से बाजार दबाव में रहा है। इसके अलावा अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच बढ़ता भू राजनीतिक तनाव भी बाजार को प्रभावित कर रहा है।