नीतीश की भूमिका से आहत दिखायी दीं राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार

देहरादून,  राष्ट्रपति चुनाव में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की भूमिका को लेकर विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार की पीडा आज साफ झलकी । उन्होंने कहा कि कभी नजदीकी भी साथ छोड़ देते हैं।

अंतरात्मा की आवाज पर अपने लिये वोट मांग रही मीरा ने यहां संवाददाताओं के इस संबंध में पूछे गये एक सवाल के जवाब में कहा, ‘ जीवन में कभी नजदीकी साथी आपका साथ छोड देते हैं ।’ मीरा से पूछा गया था कि आपकी आवाज क्या नीतिश कुमार की अंतरात्मा तक नहीं पहुंच पायी । इसके जवाब में उन्होंने यह भी कहा कि अंतरात्मा को पुकार का प्रभाव जरूर ​पडता है ।

इस संबंध में उन्होंने वीवी गिरि का उदाहरण देते हुए कहा कि उन्हें अंतरात्मा की आवाज पर ही वोट मिले थे ।

यह पूछे जाने पर कि विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने उनके लोकसभा अध्यक्ष के कार्यकाल में विपक्षी दल के साथ पक्षपातपूर्ण व्यवहार करने का आरोप लगाया है, मीरा ने कहा कि वह सुषमा ही थीं जिन्होंने लोकसभा में उनकी कई बार तारीफ की थी ।

उन्होंने कहा कि वर्तमान केंद्र सरकार के तीन वर्ष के कार्यकाल में भारत की विविधता पर कुठाराघात हुआ है । उन्होंने कहा कि अब समय आ गया है कि हम सब की आवाज बनकर खडे हों और अंतरात्मा की आवाज पर निर्णय लें ।

राज्यों में जाकर अपने लिये समर्थन जुटा रही मीरा आज यहां के एक दिवसीय दौरे पर थीं ।