अजमेर जिले की तकदीर बदली मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान ने

जयपुर, पानी की कमी से जूझ रहे राजस्थान को जल संकट से उबारने के लिए चलाए जा रहे मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के द्वितीय चरण में अजमेर जिले की नौ पंचायत समितियों की 45 ग्राम पंचायतों के 108 गांवों का चयन किया गया है। परियोजना पर काम तेजी से चल रहा है।

मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन परियोजना से जुड़े सूत्रों ने यह जानकारी देते हुए बताया कि परियोजना के तहत अजमेर जिले में 3753 कार्यो को मंजूरी दी गई है। इन कार्यों पर करीब 49 करोड़ चार लाख रूपये खर्च होंगे। े। मंजूर किये गये कार्यो में से 432 कार्य पूरे हो चुके है जबकि शेष प्रगति पर हैं।

उन्होंने बताया कि अजमेर शहर में अभियान के दूसरे चरण में दो निकायों में 81 लाख 64 हजार रूपये की लागत के 43 कार्य मंजूर किये गये हैं । इनमे से 36 कार्य पूरे हो चुके है ओैर शेष कार्य चल रहे हैं। अभियान के तहत शहरी क्षेत्र की सात बावड़ियों का चयन किया गया है और दस सरकारी भवनों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग स्ट्रक्चर बनाए गए है। संकलन किये गये वष्रा के पानी का उपयोग बगीचों की सिंचाई के लिए किया जाएगा।

सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के दूसरे चरण में अजमेर शहर की सात बावड़ियों का जीर्णोद्धार कराया गया है। इनमें तालाब बावड़ी, आम का तालाब, चांद बावड़ी, भांग बावड़ी, कातन बावड़ी, जवाहर की नाड़ी बावड़ी, केला बावड़ी और मलूसर बावड़ी का जीर्णोद्वार करवाया गया है। सूत्रों ने दावा किया कि मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान में जिन इलाकों में कार्य हुए हैं वहां भूजलस्तर बढा है और इलाकों में हरियाली नजर आ रही है।