कांग्रेस ने 84 के दंगों के लिए आज तक माफी नहीं मांगी : अकाली सांसद

नयी दिल्ली, लोकसभा में आज 1984 के सिख विरोधी दंगों का मुद्दा उठाते हुए अकाली दल के एक सदस्य ने कहा कि कांग्रेस ने 84 के दंगों के लिए आज तक माफी नहीं मांगी और सिखों के जख्मों पर मरहम नहीं लगाया।

अकाली दल के प्रेमसिंह चंदूमाजरा ने दंगों को ‘नरसंहार’ करार देने वाले कनाडा की ओंटारियो विधानसभा के प्रस्ताव को खारिज करने वाले विदेश मंत्रालय के बयान को वापस लेने की भी मांग की।

उन्होंने कांग्रेस के मल्लिकाजरुन खड़गे द्वारा भाजपा के पूर्व राज्यसभा सदस्य तरण विजय के दक्षिण भारतीयों संबंधी बयान को सदन में उठाने के संदर्भ में कहा कि भाजपा नेता ने तो माफी मांग ली है, लेकिन 84 के ‘नरसंहार’ पर तो कांग्रेस ने माफी भी नहीं मांगी है।

चंदूमाजरा ने कहा, ‘‘अभी तक हमारे जख्मों पर मरहम नहीं लगाया गया।’’ अकाली सांसद ने कहा कि 84 के दंगों पर कनाडा के ओंटारियो प्रांत की विधानसभा ने एक प्रस्ताव पारित कर सिख विरोधी दंगों को ‘नरसंहार’ माना है। लेकिन विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने इस प्रस्ताव को खारिज करते हुए इसे ‘दिग्भ्रमित’ करने वाला कहा है, जिसे वापस लिया जाना चाहिए।

गौरतलब है कि कनाडा के ओंटारियो प्रांत की विधानसभा ने एक प्रस्ताव पारित कर भारत में 1984 में हुए दंगों को आधिकारिक तौर पर सिख ‘‘नरसंहार’’ माना है। लेकिन प्रस्ताव को खारिज करते हुए विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने शुक्रवार को कहा था, ‘‘हम इस दिग्भ्रमित प्रस्ताव को खारिज करते हैं, जो भारत, इसके संविधान, समाज, मूल्यों, कानून का शासन और न्यायिक प्रक्रिया की सीमित समझ पर आधारित है।’’