कथित ईवीएम छेड़छाड़: विपक्षी दल चुनाव आयोग से करेंगे मुलाकात

नयी दिल्ली,  विपक्षी दलों ने हाल में कई राज्यों में हुए चुनावों के दौरान ईवीएम के साथ हुई कथित छेड़छाड़ के मामले को एकजुट होकर चुनाव आयोग के समक्ष उठाने का आज निर्णय लिया।

संसद में विभिन्न विपक्षी दलों के नेताओं ने आज मुलाकात की और मामले पर कार्रवाई की मांग को लेकर चुनाव आयोग से मिलने का निर्णय लिया। विपक्षी नेता आगामी सभी चुनावों में वीवीपीएटी की सुविधा शुरू किए जाने की मांग कर रहे हैं। कांग्रेस कथित छेड़छाड़ के मद्देजनर ईवीएम के स्थान पर मतपत्र के इस्तेमाल पर जोर दे रही है।

पार्टियों की मांग है कि चुनाव आयोग उनकी आशंकाओं को दूर करें और देश के नागरिकों एवं मतदाताओं को इस गंभीर मुद्दे पर आश्वस्त करे।

विपक्षी दलों ने कहा कि स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव वे बुनियादी आधार है जिस पर पूरे देश की व्यवस्था टिकी है।

एक नेता ने कहा, ‘‘इस व्यवस्था को बनाए रखने के लिए आवश्यक किसी भी बुनियादी सिद्धांत के उल्लंघन पर तत्काल एवं गंभीरता के साथ कार्रवाई किए जाने की आवश्यकता है।’’ संसद में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद के चैंबर में आज हुई इस रणनीतिक बैठक में कांग्रेस नेताओं अहमद पटेल, आनंद शर्मा, कपिल सिब्बल और विवेक तनखा के अलावा जदयू नेता अली अनवर अंसारी, तृणमूल नेता सुखेंदु शेखर रॉय, बसपा नेता सतीश मिश्रा और सपा नेता नीरज शेखर मौजूद थे।

राकांपा नेता मजीद मेमन, माकपा नेता डी राजा और राजद नेता जे पी नारायण यादव भी बैठक में मौजूद थे और सभी ने मुद्दे को मजबूती के साथ चुनाव आयोग के समक्ष उठाने का निर्णय लिया है।