रूस में गरीबी दर पिछले एक दशक में सबसे अधिक हुई

मास्को,  यूक्रेन पर प्रतिबंधों और तेल संकट के कारण अर्थव्यवस्था पर पड़े बुरे प्रभाव के बीच गरीबी में रहने वाले रूसी लोगों की संख्या पिछले साल लगभग दो करोड़ पर पहुंच गई है जो कि पिछले एक दशक का सबसे बड़ा आंकड़ा है।

सांख्यिकी एजेंसी ‘रोस्टेट’ की ओर से जारी आंकड़ों से पता चलता है कि पिछले साल करीब 1.98 करोड़ लोगों : कुल आबादी के 13 प्रतिशत से अधिक : की आय न्यूनतम स्वीकार्य आय से कम थी।

वर्ष 2015 में यह आंकड़ा 1.95 करोड़ था।

रूस में विभिन्न अवधियों में आय अत्यधिक परिवर्तनशील रहती है, चौथी तिमाही में न्यूनतम आय प्रति माह 9,691 रूबल :रूसी मुद्रा: तय की गई थी।

तेल के दाम गिरने एवं यूूक्रेन विवाद पर पश्चिमी प्रतिबंधों के कारण रूस में मंदी की स्थिति उत्पन्न होने से पहले वर्ष 2014 में गरीबी दर 1.61 करोड़ थी।