सीरियाई हमले में विद्रोहियों के ‘जहरीले’ हथियार डिपो को निशाना बनाया गया : रूस

मास्को,  विद्रोहियों के कब्जे वाले पश्चिमोत्तर सीरिया में हुए संदिग्ध रासायनिक हमले के एक दिन बाद रूस ने आज कहा कि सीरियाई हवाई हमले में ‘‘आतंकवादियों के एक गोदाम’’ को निशाना बनाया गया जिसमें ‘‘जहरीले पदार्थ’’ रखे थे।

रूसी रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘रूसी हवाई क्षेत्र के डेटा के अनुसार सीरियाई विमान ने खान शेखुन के निकट आतंकवादियों के एक बड़े गोदाम को निशाना बनाया।’’ मंत्रालय ने कहा कि इसमें ‘‘एक जहरीले पदाथरें का गोदाम था जिसमें बम बनाए जाते थे।’’ मंत्रालय ने यह नहीं बताया कि यह हमला जानबूझकर किया गया या अनजाने में किया गया।

उसने कहा कि ‘‘रासायनिक हथियारों का शस्त्रागार’’ इराक में लड़ाकों द्वारा इस्तेमाल करने के लिए था। उसने कहा कि सूचना ‘‘पूरी तरह विश्वसनीय एवं सही है।’’ इराक में आतंकवादियों द्वारा इस प्रकार के हथियारों के इस्तेमाल की बात को ‘‘अंतरराष्ट्रीय संगठनों और प्राधिकारियों ने बार बार साबित किया है।’’ बयान में यह नहीं बताया गया है कि क्या सीरियाई प्रशासन यह जानता था कि वहां रासायनिक हथियार हैं। इस बयान में जहरीले हथियार रखने को लेकर ‘‘आतंकवादियों’’ पर उंगली उठाई गई है।

इदलिब प्रांत के खान शेखुन में कल हुए संदिग्ध रासायनिक हमले में 20 बच्चों समेत कम से कम 72 लोगों की मौत हो गई थी।

सीरिया में विपक्ष ने राष्ट्रपति बशर अल असद के बलों पर आरोप लगाते हुए कहा कि इस हमले से शांति वार्ता के भविष्य पर शंका के बादल मंडराने लगे है।

सेना ने किसी संलिप्तता से इनकार करते हुए ‘‘आतंकवादी समूहों’’’ पर ‘‘रासायनिक एवं जहरीले पदाथरें’’ के इस्तेमाल का आरोप लगाया है।

पूर्व अलकायदा सहयोगी फतह अल शाम के नेतृत्व में विद्रोही समूहों ने हमले का बदला लेने का संकल्प लिया।