अवमानना मामला: न्यायमूर्ति कर्णन उच्चतम न्यायालय के समक्ष पेश हुए

नयी दिल्ली, कलकत्ता उच्च न्यायालय के विवादित न्यायाधीश सी एस कर्णन आज उच्चतम न्यायालय के समक्ष पेश हुए, जिसने उन्हें अवमानना के नोटिस पर जवाब देने के लिए चार सप्ताह का समय दे दिया। हालांकि न्यायालय ने उनकी प्रशासनिक एवं न्यायिक शक्तियों को बहाल करने के उनके अनुरोध को खारिज कर दिया।

प्रधान न्यायाधीश जे एस खेहर की अध्यक्षता वाली सात जजों की पीठ ने न्यायमूर्ति कर्णन की निजी पेशी पर उन्हें कहा कि वह अपने कई संचारों में विभिन्न न्यायाधीशों के खिलाफ लगाए गए आरोपों पर जवाब दें।

पीठ ने न्यायमूर्ति कर्णन से पूछा कि वह बिना शर्त माफी मांगने के लिए और विभिन्न न्यायाधीशों के खिलाफ लगाए आरोपों से युक्त अपने संवादों को वापस लेने को तैयार हैं या नहीं? न्यायमूर्ति कर्णन सीधे तौर पर जवाब नहीं दे रहे थे इसलिए पीठ ने उन्हें इस सवाल का जवाब देने में समय लेने और कानूनी मदद लेने का सुझाव दिया।