एच1बी प्रणाली में कुछ ‘व्यावहारिक’ सुधारांे की जरूरत: सांसद रो खन्ना

वाशिंगटन, भारतीय अमेरिकी सांसद रो खन्ना ने एच1बी वीजा प्रणाली में कुछ ‘व्यावहारिक’ सुधारों का आह्वान करते हुए कहा है कि अमेरिका को अपने दरवाजे उन प्रवासियांे के लिए खोलकर रखने चाहिए, जो रोजगार सृजन में और अर्थव्यवस्था को आकार देने में योगदान देते हैं।

बड़ी संख्या में भारतीयों और अन्य प्रवासियों के कार्यस्थल सिलिकॉन वैली का प्रतिनिधित्व करने वाले खन्ना ने कहा कि कई अमेरिकी लोगों का मानना है कि एच1बी वीजा कार्यक्रम में सुधार की जरूरत है।

पहली बार सांसद बने खन्ना ने पीटीआई भाषा को दिए एक साक्षात्कार में कहा, ‘‘निश्चित तौर पर हमें दुरूपयोगों को खत्म करना है। हमारे यहां ऐसी कंपनियां नहीं होनी चाहिए, जिनमें 50 प्रतिशत से अधिक कर्मी एच-1बी वीजाधारक हों। हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उन्हें जायज वेतन मिले।’’ उन्होंने कहा, ‘‘ये स्वाभाविक सुधार हैं जिनमें वेंक शुक्ला :टीआईई सिलिकॉन वैली के नेतृत्वकर्ता: जैसे लोग और कई अमेरिकी यकीन रखते हैं। आइए इस प्रणाली को दुरूस्त करें, दुरूपयोगों को खत्म करें लेकिन यह सुनिश्चित करें कि रोजगार सृजन में प्रवासियों की भूमिका को रेखांकित किया जाए।’’ एच1बी एक अप्रवासी वीजा है, जो अमेरिकी कंपनियों को ऐसे पेशों में विदेशी कर्मचारी नियुक्त करने की अनुमति देता है, जिनमें सैद्धांतिक एवं तकनीकी दक्षता की जरूरत होती है। यह भारतीय तकनीकविदों के बीच बहुत लोकप्रिय है और प्रौद्योगिकी कंपनियां हर साल हजारों कर्मचारियों की नियुक्ति के लिए इसपर निर्भर करती हैं।