वर्ष 2024 तक परमाणु उर्जा उत्पादन तीन गुना करने का लक्ष्य

नयी दिल्ली, केंद्र सरकार ने नए परमाणु उर्जा संयंत्रों की स्थापना की प्रक्रिया को गति प्रदान की है जिसके चलते वर्ष 2024 तक देश में परमाणु उर्जा क्षमता के तीन गुना बढ़कर करीब 15 हजार मैगावाट होने की संभावना है।

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री जितेन्द्र सिंह ने लोकसभा में आज प्रश्नकाल के दौरान बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार द्वारा सभी चालू परमाणु परियोजनाओं में तेजी लाने एवं देश के विभिन्न हिस्सों में नए संयंत्रों की स्थापना के लिए कई कदम उठाए हैं।

उन्होंने कहा कि जब 2014 में मोदी सरकार सत्ता में आयी थी तो हमने दस साल में परमाणु उर्जा उत्पादन को तीन गुना बढ़ाने का लक्ष्य रखा था और हमें इस लक्ष्य को हासिल करने की उम्मीद है।

वर्ष 2014 में भारत की परमाणु उर्जा उत्पादन क्षमता 4780 मैगावाट थी।

हालांकि मंत्री ने कहा कि लक्षित परमाणु उर्जा के उत्पादन के लिए घरेलू और विदेशी स्रोतों से पर्याप्त मात्रा में यूरेनियम की उपलब्धता जरूरी है।

उन्होंने बताया कि सरकार विभिन्न स्रोतों से यूरेनियम हासिल करने की प्रक्रिया को सक्रियता से आगे बढ़ा रही है और बिहार तथा मेघालय जैसे नए स्थानों पर भी इस दिशा में काम किया जा रहा है।

चौधरी ने बताया कि पहली बार भारतीय परमाणु उर्जा निगम को सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के साथ संयुक्त उद्यम में परमाणु संयंत्रों की स्थापना की अनुमति दी गयी है।