भारत और पाक के बीच सिंधु जल आयोग की वार्ता

इस्लामाबाद, भारत और पाकिस्तान के अधिकारी स्थायी सिंधु आयोग :पीआईसी: की आज से यहां शुरू हो रही दो दिवसीय बैठक में हिस्सा लेंगे।

सिंधु जल आयुक्त पीके सक्सेना की अगुवाई में 10 सदस्यीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल बैठक में हिस्सा लेने के लिए कल यहां पहुंच गया। इस प्रतिनिधिमंडल में विदेश मंत्रालय के अधिकारी और तकनीकी विशेषज्ञ शामिल हैं।

पाकिस्तानी पक्ष का नेतृत्व सिंधु जल आयुक्त मिजऱ्ा आसिफ सईद करेंगे और उनके साथ जल और उर्जा मंत्रालय के अधिकारी तथा अन्य विशेषज्ञ भी मौजूद रहेंगे।

सूत्रों ने बताया कि इस बैठक में, पाकिस्तान अपनी तरफ बहने वाली नदियों पर भारत की ओर से तीन जल विद्युत परियोजनाओं के निर्माण पर अपनी चिंताओं को रेखांकित करेगा।

ये हैं चेनाब पर 1000 मेगावॉट की पकुल डल परियोजना, मियार नाला पर 120 मेगावॉट मियार परियोजना और लोअर कलनाई नाला पर 43 मेगावॉट की लोअर कलनाई जल विद्युत परियोजना।

पाकिस्तान की दलील है कि ये परियोजनाएं 1960 में हुए सिंधु जल समझौते का उल्लंघन करती हंै जो दोनों पक्षों के बीच मौजूदा तनाव के चलते गतिरोध में आ गई हैं।

आज की बैठक स्थायी सिंधु जल आयोग का 113वां सत्र है। आयोग की स्थापना 1960 में हुई थी।

इससे पहले आयोग की बैठक 2015 में हुई थी। हालांकि एक अन्य बैठक सितंबर 2016 में होनी थी लेकिन उरी आतंकी हमले के बाद उपजे तनाव के चलते उसे रद्द कर दिया गया था।

 

Leave a Reply