अफगानिस्तान में शांति के लिए महिला सशक्तिकरण अहम है: भारत

भारत ने जोर देकर कहा है कि अफगानिस्तान में शांति प्रक्रिया की सफलता के लिए लैंगिक समानता एवं महिला सशक्तिकरण अहम कारक हैं।

संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि सैयद अकबरूद्दीन ने भारतीय एनजीओ ‘सेल्फ इम्प्लाइड विमेंस एसोसिएशन’ :सेवा: का उदाहरण दिया। सेवा अफगानिस्तान में महिलाओं के साथ काम कर रहा है और खाद्य प्रसंस्करण, सिलाई एवं कढ़ाई का व्यावसायिक प्रशिक्षण मुहैया करा रहा है।

उन्होंने अफगानिस्तान के असुरक्षित इलाकों में महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण के अवसरों पर कल यहां आयोजित एक सत्र में कहा, ‘‘महिला सशक्तिकरण एवं लैंगिक समानता शांति निर्माण के लिए अहम हैं।’’ उन्होंने कहा कि इस कार्यक्रम से करीब 4000 गरीब महिलाओं को लाभ पहुंचा है और आगामी वर्ष में परियोजना के दूसरे चरण में हजारों और महिलाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि इस अफगान परियोजना के तहत ‘सबा बाग-ए-खजाना’ नामक संघ अपनी कारोबारी योजनाएं बनाता है। इस संघ में 22 महिला समूह शामिल हैं जो अपने उत्पादन केंद्र चलाते हैं और अपने उत्पाद स्थानीय बाजार में बेचते हैं।

Leave a Reply