उत्तर प्रदेश में भाजपा ने रचा इतिहास

नयी दिल्ली,  राजनीतिक दृष्टि से देश के सबसे महत्वपूर्ण राज्य उत्तर प्रदेश में भाजपा इतिहास रचने जा रही है और साथ ही उत्तराखंड में भी उसकी सरकार बनना तय हो गया है । उधर पंजाब में सत्ता विरोधी लहर पर सवार होकर कांग्रेस प्रदेश में वापसी करती दिख रही है जबकि गोवा और मणिपुर में भाजपा और कांग्रेस के बीच कड़ा मुकाबला चल रहा है ।

पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में मतों की गिनती जारी है और शुरूआती तीन घंटों के रूझान के अनुसार उत्तर प्रदेश में 403 सदस्यीय विधानसभा की 396 सीटों में से भाजपा 291 पर आगे चल रही है और अपने प्रतिद्वंद्वियों को उसने काफी पीछे छोड़ दिया है ।

उत्तर प्रदेश की निवर्तमान विधानसभा में केवल 47 सीटें रखने वाली भाजपा ने 40 फीसदी मतों को हासिल करने में सफलता पायी है । इन विधानसभा चुनावों को एक प्रकार से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लोकप्रियता और नोटबंदी के उनके फैसले पर जनमत संग्रह के रूप में देखा जा रहा था।

प्रदेश में सपा. कांग्रेस गठबंधन 69 सीटों पर आगे है तो वहीं मायावती की बसपा केवल 17 स्थानों पर आगे चल रही है । विकास के एजेंडे पर चुनाव प्रचार को केंद्रित करने वाले मुख्यमंत्री अखिलेश की पार्टी सपा 58 सीटों पर आगे है ।

केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह के बेटे पंकज सिंह नोएडा सीट पर आगे चल रहे हैं ।

कथित सामूहिक बलात्कार मामले और एक नाबालिग से बलात्कार के प्रयास के मामले में मुकदमा दर्ज होने के बाद दागी मंत्री गायत्री प्रजापति अमेठी में पीछे चल रहे हैं । वह इस समय फरार हैं ।

प्रजापति को भाजपा की उम्मीदवार और कांग्रेस नेता संजय सिंह की पहली पत्नी गरिमा सिंह और उनकी मौजूदा पत्नी कांग्रेस की अमिता सिंह के खिलाफ मैदान में उतारा गया था।