सट्टेबाजों के दाव से हड़कम्प

नई दिल्ली ,  : पांच राज्य विधानसभाई चुनावों में सट्टेबाजों के फेवरेट भावोंं ने सारे समीकरण जिस तरह से बदले हैं, वह हर दल को चौंकाने के लिए काफी हैं। राजनीतिक पंडित अपना-अपना गणित बैठा रहे हैं लेकिन सट्टेबाजों के गणित के मुताबिक यूपी में भाजपा नंबर वन, सपा-कांग्रेस नंबर टू तथा बसपा तीसरे स्थान पर है। पंजाब में कांग्रेस और आम आदमी पार्टी अब बराबरी पर आ गए हैं दोनों का रेट एक ही है और अकाली-भाजपा फिसड्डी है।

उत्तराखंड में भाजपा टॉप पर रहेगी वहीं गोवा में बाजी भाजपा के पक्ष है और मणिपुर तथा यूपी में आखिरी मतदान का चरण बाकी है। बुकीज तथा पुंटरों ने जिस तरह से दांव लगाए हैं और अगर कहीं इस बार भी ये सही साबित हो गए तो सचमुच कई जानी-मानी पार्टियों और सूरमाओं के लिए भूकम्प ही आ सकता है। चौंकाने वाली स्थिति उत्तर प्रदेश में रहेगी जहां भाजपा नम्बर वन पर आ चुकी है। प्राप्त जानकारी के अनुसार पुन्टरों ने जो फेवरेट तय किए हैं उसके मुताबिक यूपी में भाजपा पर 184-187 का भाव है तो सपा-कांग्रेस पर 129-132 का दांव पुंटरों ने लगाया है, जबकि बहुजन समाजवादी पार्टी को 67-69 सीटें मिलने की बात पुन्टरों ने की है।

ये नए रेट मंगलवार को डिब्बा खुलने पर सामने आए हैं तथा इस नए रेट के मुताबिक भाजपा के पक्ष में बाजी तेजी से पलट रही है तथा कांग्रेस अकेले दम पर कितनी सीटें लेगी उस पर फेवरेट तय हो गए हैं। उसे सिर्फ 20-22 सीटें मिलने पर रेट लगे हैं। उत्तराखंड में भाजपा को 40-42 सीटें पुंटरों ने दी हैं व कांग्रेस पर दांव ही नहीं लग रहा तथा कमोबेश गोवा में भी यही स्थिति है जहां भाजपा को 19-21 सीटें जा रही हैं।ताजा जानकारी के अनुसार पंजाब में आम आदमी पार्टी पर पुन्टरों ने कल तक जो रेट दिया था वह अब 53-55 पर आ गया है और कांग्रेस का फेवरेट रेट सट्टेबाजों ने 53-55 दिया है। अर्थात दोनों पार्टियां बराबरी पर हैं तथा वहां कुछ भी हो सकता है। मतदान के बाद पंजाब में पुन्टर कांग्रेस को नंबर वन पार्टी माना है। जबकि भाजपा-शिअद पर 06-07 सीटों का ही फेवरेट है।

सट्टेबाजों के भाव अक्सर सही सिद्ध होते हैं तथा दांव लगाने वाले इसे परिणाम की तरह मानकर ही खेलते हैं। अहम बात यह है कि सबसे महत्वपूर्ण सीट लंबी, जहां से मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल चुनाव लड़ रहे हैं, पर 50-60 का भाव लगाया गया है। लंबी में ही कांग्रेस की ओर से सीएम पद के दावेदार कैप्टन अमरिन्द्र भी चुनाव लड़ रहे हैं तथा ‘आप’ भी वहां मैदान में है। वहीं जलालाबाद में आम आदमी पार्टी के भगवंत मान और डिप्टी सीएम सुखबीर बादल चुनाव लड़ रहे हैं पर 90-90 का फेवरेट लगाया गया है। जानकारों के अनुसार सट्टा बाजार का गणित कुछ यूं कहता है कि जैसे यूपी में सपा-कांग्रेस पर 184-187 का फेवरेट है

तो इसका मतलब यह हुआ मान लो कि किसी ने 184 सीट के ऊपर 10 लाख रुपए लगाए और इससे कम अर्थात 183 सीटें आई तो उसे 10 लाख रुपए मिल जाएंगे लेकिन अगर उसने 187 पर दांव लगाया और यह 193 से कम रहा तो समझो वह दस लाख रुपए हार गया। वह 187 सीटें या इससे ज्यादा मिलने पर ही जीत पाएगा। इसी अंक गणित के आधार पर पूरा सट्टा बाजार घूमता है। हालांकि पंजाब और यूपी में इस वक्त पूरा चुनावी शोरगुल दांव पर है लेकिन सट्टेबाजी के आंकलन और पुन्टरों के फेवरेट भाव को लेकर अच्छी-खासी कशमकश देखने को मिल रही है क्योंकि सट्टेबाजों के भाव अक्सर परिणामों के अनुकूल रहते हैं।