जीडीपी के आंकड़ों से दिखा हार्वर्ड और हार्ड वर्क वालों की सोच का फर्क : मोदी

महराजगंज,  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नोटबंदी के बाद आये सकल घरेलू उत्पाद :जीडीपी: सम्बन्धी आंकड़ों को विरोधियों के दुष्प्रचार का करारा जवाब करार देते हुए आज कहा कि देश के ईमानदार लोगों, किसानों और नौजवानों ने जीडीपी में सुधार के जरिये ‘हार्वर्ड और हार्ड वर्क’ वालों की सोच के बीच फर्क जाहिर कर दिया है।

मोदी ने यहां भाजपा प्रत्याशियों के समर्थन में आयोजित रैली में कहा कि नोटबंदी के बाद विपक्ष के लोगों ने आर्थिक विकास चौपट होने, उद्योग धंधे बंद होने और देश के पूरी तरह पिछड़ने का दुष्प्रचार किया था। हार्वर्ड और आक्सफोर्ड विश्वविद्यालयों के बड़े-बड़े विद्वानों ने नोटबंदी के कारण जीडीपी में दो से चार प्रतिशत की गिरावट का दावा किया था, लेकिन कल आये आंकड़ों में जीडीपी में बढ़ोतरी ने साबित कर दिया है कि ‘हार्वर्ड और हार्ड वर्क’ में कितना फर्क है।

उन्होंने कहा ‘‘देश ने हार्वर्ड वालों और हार्ड वर्क वालों की सोच का फर्क देख लिया। एक ओर हार्वर्ड के विद्वान हैं और दूसरी ओर एक गरीब मां का बेटा है जो हार्ड वर्क से देश की अर्थनीति बदलने में लगा हुआ है। देश के ईमानदारों ने दिखा दिया है कि हार्वर्ड से ज्यादा दम हार्ड वर्क में है।’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि कल जीडीपी के आंकड़े बता रहे हैं कि देश के ईमानदारों, किसानों और नौजवानों ने देश की विकास यात्रा को कोई आंच नहीं आने दी। मैं सिर झुकाकर नमन करना चाहता हूं कि उन्होंने झूठी बातों के बीच खेल करने वालों को परास्त कर दिया है। देश को अर्थनीति का यही माडल चाहिये। यह हमने करके दिखाया है।

उन्होंने कहा कि कल जो आंकड़े आये हैं, उससे विरोधियों को परेशानी हो रही है। वे अब कह रहे हैं कि आंकड़े कहां से आये। वे आंकड़े सच्चे हैं या झूठे। दरअसल, सभी सरकारों में जहां से आंकड़े आते हैं, वहीं से हमारे यहां भी आते हैं।