आल इंग्लैंड मेरे लिए किसी अन्य सुपर सीरीज की तरह: सिंधू

नयी दिल्ली,  रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता पीवी सिंधू आगामी आल इंग्लैंड चैम्पियनशिप को अलग से कोई विशेष महत्व नहीं देना चाहती और उन्होंने कहा कि वह इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता को किसी अन्य सुपर सीरीज टूर्नामेंट की तरह देख रही हैं।

सिंधू ने पीटीआई को दिए इंटरव्यू में कहा, ‘‘मैं आल इंग्लैंड को कोई अन्य सुपर सीरीज टूर्नामेंट समझती हूं। लोग इसके नाम से सोच सकते हैं कि यह बड़ा टूर्नामेंट है।’’ गचीबाउली में पुलेला गोपीचंद अकादमी में ट्रेनिंग करने वाली हैदराबाद की 21 साल की सिंधू ने कहा, ‘‘लेकिन एक खिलाड़ी होने के नाते मैं उन्हीं खिलाड़ियों के खिलाफ खेलूंगी जिनके खिलाफ अन्य सुपर सीरीज टूर्नामेंटों में खेलती हूं, इसलिए यह मेरे लिए समान है।’’ इस 600000 डालर इनामी प्रतियोगिता का आयोजन बर्मिंघम में सात से 12 मार्च तक किया जाएगा।

सिंधू के मेंटर और भारत के मुख्य कोच पुलेला गोपीचंद और दिग्गज खिलाड़ी प्रकाश पादुकोण ही दो भारतीय हैं जिन्होंने अब तक आल इंग्लैंड टूर्नामेंट जीता है। साइना नेहवाल 2015 में खिताब के काफी करीब पहुंची थी लेकिन उन्हें फाइनल में ओलंपिक चैम्पियन कैरोलिना मारिन के खिलाफ शिकस्त का सामना करना पड़ा था।

सिंधू ने अतीत में काफी रिकार्ड बनाए हैं। वह 2013 में विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य पदक जीतने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनी और डेनमार्क में अगले साल उन्होंने इस उपलब्धि को दोहराया।