चुनाव के समय खुलने वाली ‘दुकानों’ की सच्चाई जान चुके हैं मुसलमान: भाजपा

नयी दिल्ली,  जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी और कुछ अन्य मुस्लिम संगठनों एवं धर्मगुरूओं द्वारा उत्तर प्रदेश में बसपा को समर्थन का ऐलान किए जाने पर कटाक्ष करते हुए भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा ने आज कहा कि ‘चुनाव के समय खुलने वाली ऐसी दुकानों’ की सच्चाई मुस्लिम समुदाय जान चुका है और आने वाले समय में ऐसी दुकानों पर ताला लग जाएगा।

भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के महामंत्री शाकिर हुसैन ने ‘भाषा’ से कहा, ‘‘हर चुनाव में कुछ लोग मुस्लिम वोटों के ठेकेदार बनकर ऐसी दुकानें खोल लेते हैं और किसी न किसी पार्टी के पक्ष में बयान जारी करते हैं। अब मुस्लिम समुदाय इस तरह की दुकानों की सच्चाई जान चुका है। अब लोग इनकी एक भी नहीं सुनने वाले हैं और आने वाले दिनों में ऐसी दुकानों पर ताला लग जाएगा।’’ हाल ही में जामा मस्जिद के शाही इमाम बुखारी ने बसपा को वोट देने के लिए बयान जारी किया। हालांकि साल 2012 के विधानसभा चुनाव में उन्होंने सपा का समर्थन किया था।

बुखारी से पहले राष्ट्रीय उलेमा काउंसिल ने बसपा के समर्थन में अपने उम्मीदवार हटा लिये थे। सपा के पूर्व राष्ट्रीय सचिव कमाल फारूकी तथा ‘गरीब नवाज फाउंडेशन’ के मौलाना अंसार रजा ने भी मायावती की पार्टी के पक्ष में बयान जारी किया है।

हुसैन ने कहा, ‘‘हमने उत्तर प्रदेश के कई मुस्लिम बहुल इलाकों का दौरा किया और पाया कि इस तरह के बयानों और फतवों का उन पर कोई असर नहीं है। लोग अपने मुद्दों और हित को देखते हुए वोट देते हैं। आज के समय में किसी के कहने पर कोई वोट नहीं देता।’