सरकार रोजगार सृजन के मोर्चे पर पूरी तरह से विफल रही है : राहुल

नयी दिल्ली, राष्ट्रपति के अभिभाषण में सरकार की उपलब्यिों के जिक्र के बाद मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने आज आरोप लगाया कि युवाओं के लिए रोजगार सृजन के मोर्चे पर यह सरकार पूरी तरह से विफल रही है।

बजट सत्र के पहले दिन संसद के संयुक्त सत्र के समक्ष राष्ट्रपति के अभिभाषण के बाद राहुल ने संसद भवन परिसर में संवाददााताओं से कहा, ‘‘ भारत के समक्ष आज सबसे महत्वपूर्ण सवाल युवाओं को रोजगार प्रदान करने का है। युवाओं के लिए रोजगार एक बड़ा मुद्दा है और इस मोर्चे पर यह सरकार पूरी तरह से विफल रही है।’’ कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा, ‘‘ सरकार इस मुद्दे पर पूरी तरह से विफल रही है। सरकार रोजगार सृजन के मोर्चे पर पूरी तरह से विफल रही है। ’’ इससे पहले, राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने संसद के संयुक्त सत्र के समक्ष अपने अभिभाषण में देश के युवाओं को सबसे बड़ी शक्ति बताते हुए कहा कि चार साल में देश में एक करोड़ युवाओं को प्रशिक्षित करने के लिए शुरू की गयी प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना में अब तक 20 लाख से अधिक युवा लाभान्वित हो चुके हैं।

राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘आज हमारी 65 प्रतिशत जनसंख्या 35 वर्ष से कम आयु की है। हमारे युवा हमारी सबसे बड़ी शक्ति हैं तथा युवा उर्जा का प्रभावी उपयोग आवश्यक है। हमारी सरकार ने ‘हर हाथ को हुनर’ के उद्देश्य से युवकों को कुशल बनाने और उन्हें बेहतर रोजगार के योग्य बनाने के लिए अनेक कदम उठाये हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘पूर्व में 21 मंत्रालयों और 50 विभागों में फैले कौशल विकास कार्य को एक ही मंत्रालय के अधीन लाया गया है। अगले चार साल में एक करोड़ युवकों को प्रशिक्षित करने के लिए बारह हजार करोड़ के बजट परिव्यय के साथ प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना प्रारंभ की गयी है। इस योजना में 20 लाख से अधिक युवक पहले ही लाभान्वित हो चुके हैं।’’