फिल्मकारों को शास्त्रीय गीतों में रूचि नहीं : शंकर महादेवन

मुंबई, संगीतकार एवं गायक शंकर महादेवन का कहना है कि बॉलीवुड में शास्त्रीय संगीत पिछड़ता जा रहा है क्योंकि फिल्मकारों और कंपनियों को संगीत की इस शैली में रूचि नहीं है।

गायक संगीत निर्देशक शंकर-एहसान-लॉय की तिकड़ी का हिस्सा हैं।

उन्होंने कहा कि फिल्मों में गीतों का चयन फिल्मकार करते हैं संगीतकार नहीं और इसलिए ही आज अच्छी शास्त्रीय धुनों की कमी है।

शंकर ने पीटीआई भाषा से कहा, ‘‘ फिल्मों में संगीतकार और निर्णय लेने वाला वर्ग अलग होता है इसलिए मांग ने होने के कारण अक्सर हमें फिल्मों में शास्त्रीय गीतों की कमी दिखती है। निर्णय लेने वाले वर्ग का संगीत से कोई नाता नहीं होता इसलिए फिल्मों में शास्त्रीय गीत सुनने को नहीं मिलते। ’’ प्रतिष्ठित राष्ट्रीय पुरस्कार से चार बार नवाजे गए गायक ने कहा कि बहरहाल, ऐसे कुछ फिल्मकार भी हैं जो अपनी फिल्मों में शास्त्रीय संगीत को शामिल करते हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘ हम सौभाग्यशाली हैं कि हमें राकेश ओमप्रकाश मेहरा, जोया अख्तर, फरहान अख्तर, शाद अली जैसे फिल्मकारों के साथ काम करने का अवसर मिला। ये हमें काम करने की पूरी स्वतंत्रता देते हैं।’’ शंकर जल्द ही कलर्स चैनल के रियलटी शो ‘राइजिंग स्टार’ में विशेषज्ञ की भूमिका अदा करते दिखेंगे। इसमें उनके साथ पंजाबी सुपरस्टार दिलजीत दोसांझ और गायिका मोनाली ठाकुर भी नजर आएंगी।

‘राइजिंग स्टार’ चार फरवरी से कलर्स चैनल पर प्रसारित किया जाएगा। म्यांग चैंग और राघव जुयाल शो के प्रस्तोता होंगे।