रियो को मिला यूनेस्को की विश्व विरासत का दर्जा

अद्भुत शहर के नाम से पहचाने जाने वाला रियो डी जनेरियो ने अपने बढ़ती ग्रेनाइट चट्टानों, शहरी वष्रावन और समुद्रतटों के चलते आधिकारिक तौर पर संयुक्त राष्ट्र की ‘विश्व धरोहर सूची’ में जगह बना ली है।

क्राइस्ट द रिडीमर की प्रतिमा के पास आयोजित एक समारोह में कल संयुक्त राष्ट्र की सांस्कृतिक इकाई युनेस्का ने रियो को विश्व धरोहर सूची में शामिल करते हुए इसके मानव निर्मित और प्राकृतिक सुंदरता के ‘आसाधरण मेल’ पर प्रकाश डाला ।

संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि इस मेल ने ‘‘ ऐसे शहरी परिदृश्य का रूप दिया है जिसे कई लेखकों और पर्यटकों ने एक भव्य सुंदर स्थल माना है। साथ ही इसने देश की संस्कृति को भी आकार दिया है। ’’ वर्ष 2014 में हुए फुटबाल विश्व कप और इस साल अगस्त में आयोजित हुए ओलंपिक खेलों के दौरान यहां भारी संख्या में सैलानी पंहुचे थे।

बड़ी संख्या में अपराध, पिछले साल जिका और राजनीतिक उठा-पठक के कारण रियो की छवि को बहुत नुकसान भी पंहुचा है।

युनेस्का ने 2012 में ही रियो के लिए विश्व विरासत के दर्जे की घोषणा कर दी थी, लेकिन ब्राजील के प्रशासन को चार साल का वक्त दिया गया था ताकि वह फ्लामेंगो पार्क, शुगरलोफ माउंटेन इत्यादि की रक्षा के लिए योजना पेश कर सके। अब उसे यह दर्जा आधिकारिक रूप से मिल गया।