चीन के 100 विश्वविद्यालयों में तनाव, अवसाद से उबरने के लिए योग अभियान

बीजिंग, चीन के 100 विश्वविद्यालयों में छात्रों के बीच बढ़ रही अवसाद और तनाव की समस्या से निपटने में मदद के लिए एक योग अभियान शुरू किया गया है।

इस अभियान का नाम ‘100 विश्वविद्यालयों में 100 दिन’ रखा गया है और इसे चीन की पूर्व फैशन पत्रकार और उनके भारतीय पति और योग शिक्षक द्वारा चलाए जाने वाले चीन के मशहूर योग संस्थान ‘योगी योग’ ने पीकिंग विश्वविद्यालय के साथ मिलकर शुरू किया है।

‘योग के साथ अवसाद को कहें ना’ अभियान की शुरूआत कल विश्वविद्यालय के परिसर में की गई जहां भारी संख्या में छात्रों ने इसमें हिस्सा लिया।

‘योगी योग’ की संस्थापक और सीईओ यीन यान ने पीटीआई भाषा से कहा, ‘‘ ‘100 विश्वविद्यालयों में 100 दिन’ अभियान ‘प्राणायाम’, ‘ध्यान लगाने’ और योग के विशेष ‘आसन’ सिखाने के लिए शुरू किया गया है।’’ इस समारोह की शुरूआत कल विश्वविद्यालय में यान के पति मोहन सिंह भंडारी ने अवसाद से लड़ने के लिए विशेष रूप से तैयार किए गए योग आसनों के साथ की । समारोह में उनके कई अधिकारियों ने भी शिरकत की।

अंतरराष्ट्रीय फैशन पत्रिका ‘एली’ के चीनी संस्करण की पूर्व फैशन पत्रकार यिन यान अपने भारतीय पति के साथ मिलकर भारतीय आध्यात्मिक और कला के इस रूप को व्यावसायिक सफलता में परिवर्तित कर रही हैं। यिन यान और मोहन सिंह भंडारी ने रिषिकेष में विवाह किया था।

‘योगी योग’ की स्थापना 2003 में की गई थी। इसकी पूरे चीन भर में कई शाखाएं हैं, जिसमें करीब 20,000 छात्र इसकी सेवाएं लेते हैं। इसक वाषिर्क कारोबार करीब दस लाख डॉलर का है।